एन टी एस ई

 

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने देश में स्कूली शिक्षा में गुणात्मक सुधार लाने के उद्देश से 1961 में भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया था। जैसे ही परिषद स्थापित किया गया इस दिशा में बहुत सारे कार्यक्रम की शुरुआत की गयी | ऐसा ही एक कार्यक्रम में प्रतिभाशाली छात्रों की पहचान और पोषण करने के लिए किया गया था। यह कार्यक्रम राष्ट्रीय विज्ञान प्रतिभा खोज योजना (NSTSS) 1963 में प्रतिभाशाली छात्रों की पहचान और छात्रवृत्ति प्रदान करने के लिए किया गया | योजना के क्रियान्वयन के पहले वर्ष के दौरान, यह केवल 10 छात्रवृत्तियां ग्यारहवीं कक्षा के छात्रों को सम्मानित किया गया जो  दिल्ली संघ राज्य क्षेत्र तक ही सीमित था।

साल 1964 मे योजना ग्यारहवीं कक्षा के छात्रों के लिए 350 छात्रवृत्ति के साथ देश के सभी राज्यों और केन्द्र शासित क्षेत्रों के लिए बढ़ा दिया गया था।ये छात्रवृत्तियां लिखित परीक्षा, परियोजना रिपोर्ट और साक्षात्कार के आधार पर सम्मानित किया गया। लिखित परीक्षा मे विज्ञान एप्टीट्यूड टेस्ट और वैज्ञानिक विषय पर एक निबंध लिया गया है | उम्मीदवारों दावरा  लिखित परीक्षा के समय परियोजना रिपोर्ट जमा करना होता है| इन तीनों  आधारो पर चयनित उम्मीदवारों की एक निर्धारित संख्या साक्षात्कार के आधार पर चयन किया जाता है | ये चार घटकों के प्रदर्शन पर उम्मीदवारों को छात्रवृत्ति प्रयोजन के लिए आधार रखा गया | ये छात्रवृत्तियां केवल विज्ञान में शिक्षा प्राप्त कर रहे छत्रों को डॉक्टरेट स्तर तक बढ़ावा देने हेतु किया जाता है ।

एन टी एस ई  परीक्षा 2015-16

NTSE Exam 2015-16

एन टी एस ई पूछताछ

NTSE Enquiries